सहायक संपरीक्षक कैसे बने ? कार्य / सैलरी / सिलेबस सम्पूर्ण जानकारी देखें | Sahayak Samparikshak

Sahayak Samparikshak Kya Hota Hai ?

दोस्तों आज की इस आर्टिकल में हम जानेंगे कि कैसे हम सहायक संपरिक्षक बन सकते है तथा सहायक संपरिक्षक का कार्य क्या होता है Sahayak Samparikshak को कितनी सैलरी दी जाती है और सहायक संपरिक्षक बनने के लिए क्या सिलेबस होती है सारी जानकारी इस आर्टिकल के माध्यम से देखने को मिलेगा इसलिए आप इस आर्टिकल को पूरा जरूर पढ़ियेगा ताकि सहायक संपरिक्षक से संबंधित संपूर्ण जानकारी जान पाएं ।

सहायक संपरीक्षक क्या होता है ?

Sahayak samparikshak kya hota hai चलिए जानते हैं दोस्तों सहायक संपरिक्षक जिसे अंग्रेजी में Assistant Auditor भी कहा जाता है जिसका कार्य स्थानीय निकायों में ऑडिट करना होता है, और ज्यादा  विस्तृत जानकारी के लिए आप नीचे आर्टिकल को जरूर पढ़ें ।

सहायक संपरीक्षक योग्यता –

सहायक संपरिक्षक बनने के लिए आपको कम से कम स्नातक पास (कला विज्ञान या वाणिज्य) होना चाहिए।

आयु सीमा –

Sahayak Samparikshak के पद पर अप्लाई करने के लिए आयु सीमा कम से कम 18 वर्ष और अधिकतम 35 वर्ष के मध्य होना चाहिए, यहां पर स्थानीय निवासियों को आयु सीमा में छूट भी दी जाती है।

सहायक संपरिक्षक Salary –

सहायक संपरिक्षक को सैलरी तृतीय श्रेणी के आधार पर 5200 से 20200 ग्रेड पे 2400 अनुसार वेतनमान दिया जाता है।

सहायक संपरिक्षक Syllabus –

किसी भी पद को हासिल करने के लिए सबसे जरूरी होती है सिलेबस की सही जानकारी का होना । इसलिए सहायक संपरिक्षक का सिलेबस निम्नानुसार है –

  • सामान्य ज्ञान
  • बुद्धि क्षमता
  •  विश्लेषण क्षमता
  •  गणित
  •  हिंदी

इस परीक्षा में आपको 200 अंकों का Question Paper मिलेगा जिसमें सामान्य अध्ययन एवं गणित से 100 अंक और हिंदी से 100 अंकों का प्रश्न होगा।

आवश्यक दस्तावेज-

  • स्नातक की मार्कशीट
  • दसवीं का मार्कशीट
  •  आधार कार्ड 
  • संपरिक्षक का रिजल्ट
  •  जाति प्रमाण पत्र 
  • निवास प्रमाण पत्र एवं अन्य…
See also  छ.गढ़ के 12वी पास युवाओं के लिए सुनहरा मौका Kondagaon District Court Vacancy 2023

सहायक संपरिक्षक चयन प्रक्रिया-

  1. सबसे पहले विभाग द्वारा ली जाने वाली परीक्षा पास (कट आफ के अंदर) होनी चाहिए
  2. आयु सीमा और योग्यता को देखने के लिए दसवीं का मार्कशीट और स्नातक का मार्कशीट को देखा जाता है।
  3. इंटरव्यू लिया जाता है।
  4. उपर्युक्त दस्तावेजों का सत्यापन करते हुए मेरिट तैयार की जाती है उसके बाद सहायक संपरिक्षक के लिए उम्मीदवारों का चयन किया जाता है

सहायक संपरिक्षक के कार्य CG

Sahayak Samparikshak Ke Karya Cg की बात करें तो सहायक संपरिक्षक को ऑडिट से संबंधित कार्य करना होता है जिसे ऑडिटर (Samparikshak) द्वारा संपादित किया जाता है और ऑडिटर का कार्य जो है फील्ड संबंधित होता है क्योंकि ऑडिटर को 12 महीनों तक अलग-अलग सरकारी कार्यालयों में जाकर उस ऑफिस में बनाए गए  व्हाचर फाइल, कैस पंजी, बैंक पासबुक स्टेटमेंट जैसे अन्य कार्यों से संबंधित जितने भी दस्तावेज कर्मचारी द्वारा तैयार किए गए होते हैं उनका निरीक्षण करना या फिर ऑफिस की वित्तीय लेनदेन सही गाइडलाइन के अनुसार हो रहा है या नहीं उसका निरीक्षण ऑडिटर द्वारा किया जाता है और अगर लेनदेन में गड़बड़ी दिखी तो संबंधित अधिकारी होते हैं उनको नोटिस दिया जाता है ताकि कार्य में सुधार लाया जा सके इस प्रकार से सहायक संपरिक्षक और ज्येष्ठ संपरिक्षक दोनों को मिलकर कार्य को करना होता है ।

लोगों द्वारा पूछे जाने वाले सवाल –

  • सहायक संपरीक्षक क्या होता है ?

    सहायक संपरिक्षक जिसे अंग्रेजी में Assistant Auditor भी कहा जाता है जिसका कार्य स्थानीय निकायों में ऑडिट करना होता है,

  • सहायक संपरीक्षक के लिए क्या योग्यता होनी चाहिए ?

    सहायक संपरीक्षक के लिए कम से कम स्नातक पास (कला विज्ञान या वाणिज्य) होना चाहिए।

  • सहायक संपरीक्षक की सैलरी कितनी होती है ?

    तृतीय श्रेणी के आधार पर 5200 से 20200 ग्रेड पे 2400 अनुसार वेतनमान दिया जाता है।

Leave a Comment

error: Content is protected !!